Sports

मीरपुर: भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ आईसीसी ट्वेंटी 20 विश्वकप के ओपनिंग मुकाबले में मिली जीत के बावजूद क्षेत्ररक्षण में बरती गई खामियों और कैच छोडऩे पर नाराजगी जताई है। भारत ने टूर्नामेंट के ओपनिंग मुकाबले में पाकिस्तान को सात विकेट से पराजित कर विजयी शुरूआत की थी, लेकिन धोनी ने मैच के बाद जिस तरह से कैच छोड़े जाने पर निराशा जताई उससे साफ है कि भारतीय कप्तान इस मौके पर खिलाडिय़ों की किसी गलती को माफ करने के मूड में नहीं हैं।

धोनी ने कहा ‘हमने कुछ अहम कैच छोड़ दिए। यदि हम उन्हें ले पाते तो और बेहतर होता। हालांकि इसके अलावा मैच काफी बेहतर था। रोहित और धवन ने हमें बेहतर शुरूआत दी और सुरेश रैना ने उसे आगे तक बनाकर रखा।’ स्पिनरों के बारे में पूछने पर धोनी ने कहा ‘हमें ओस को देखकर ही इस बात का निर्णय करना होगा कि अतिरिक्त स्पिनरों को उतारा जाए या नहीं। मुझे लगता है कि अमित मिश्रा ने इस मैच में भी अपनी क्षमता का करीब 70 से 75 फीसदी प्रदर्शन किया है।’

मिश्रा ने चार ओवरों में 22 रन देकर दो विकेट लिए। उन्हें इस प्रदर्शन के लिए मैन आफ द मैच घोषित किया गया। कप्तान ने पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे रैना की प्रशंसा करते हुए कहा ‘रैना को इस तरह से रन बनाते देखना काफी अच्छा था। उनके होने से मध्यक्रम को और भी मजबूती मिली।’ रैना ने नाबाद 35 रन बनाए। इस पारी में उन्होंने आखिरी समय में चार चौके और एक छक्का लगाकर नौ गेंदे शेष रहते हुए भारत को जीत दिला दी।