Cricket

नई दिल्ली : भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने ट्वंटी-20 में पिछले 7 साल से भी अधिक समय में 43 मैच खेले हैं और 700 से अधिक रन बनाए हैं लेकिन उन्हें अब भी पहले अर्धशतक का इंतजार है। धोनी ने क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में अब तक 772 रन बनाए हैं लेकिन उनका उच्चतम स्कोर नाबाद 48 रन है। वह अर्धशतक लगाए बिना सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में शीर्ष पर हैं। धोनी बंगलादेश में होने वाली आई.सी.सी. विश्व टी-20 चैम्पियनशिप में बड़ा स्कोर खड़ा करने की कोशिश करेंगे।

दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर में से एक धोनी का अब तक अर्धशतक तक नहीं पहुंच पाने का मुख्य कारण उनका निचले क्रम में खेलना है। वह अपने करियर में 5वें और छठे नंबर पर 13-13 बार बल्लेबाजी के लिए उतरे जबकि बहुत कम ओवर या फिर लक्ष्य हासिल करने के लिए कम रन बचे थे। यही वजह है कि वह अपने करियर में अब तक 16 बार नाबाद रहे हैं। उनके पास अर्धशतक तक पहुंचने का सबसे बढिय़ा मौका आस्ट्रेलिया के खिलाफ 2012 में सिडनी में खेले गए मैच में था। भारत तब लक्ष्य से 10 रन दूर था और धोनी को अर्धशतक के लिए 5 रन चाहिए थे। इसके बाद वह अपने खाते में 3 रन ही और जोड़ पाए।

धोनी ने हालांकि तब अपना पिछला सर्वाधिक स्कोर पीछे छोड़ दिया था। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 2009 में मोहाली में 46 रन बनाए थे। तब भी वह पचासा पूरा करने की स्थिति में थे लेकिन दिलहारा फर्नांडो की इनसिंवग यार्कर ने उन्हें इस मुकाम पर नहीं पहुंचने दिया था। धोनी ने वैसे टी-20 के सभी प्रकार की क्रिकेट में 15 अर्धशतक लगाए हैं और उनका उच्चतम स्कोर नाबाद 73 रन है। टी-20 क्रिकेट में बिना अर्धशतक लगाए सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकार्ड भी एक भारतीय रवींद्र जडेजा के नाम पर है। जडेजा ने अब तक 108 टी-20 मैचों में 1,278 रन बनाए हैं और उनका उच्चतम स्कोर 48 रन है।  टी-20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक 2 शतक और सर्वाधिक 12 अर्धशतक लगाने का रिकार्ड न्यूजीलैंड के ब्रैंडन मैक्कुलम के नाम पर है।