Sports

नई दिल्ली: अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में डेढ़ दशक बिताने के बावजूद हरभजन सिंह घरेलू क्रिकेट का लुत्फ ले रहे हैं। 33 साल के भज्जी खुद को आज भी देश का नम्बर-1 स्पिन गेंदबाज मानते हैं। उनका कहना है कि वह जल्द बी भारतीय टीम में वापसी करेंगे। फिरोजशाह कोटला मैदान पर उत्तर क्षेत्र विजय हजारे ट्रॉफी मुकाबला खेलने पहुंचे भज्जी ने कहा, ‘‘भारतीय टीम में स्थान बनाने के मकसद से बड़ी प्रेरणा और क्या हो सकती है। मेरे, वीरेंद्र सहवाग और गौतम गम्भीर जैसे खिलाड़ी के लिए हर एक मैच मौके की तरह है।’’

भज्जी जैसे कद्दावर खिलाड़ी को अधिक समय तक टीम से बाहर रखना चयनकर्ताओं के लिए आसान नहीं। खासतौर पर ऐसे समय में जबकि भारतीय गेंदबाज देसी और विदेशी पिचों पर लय पाने में नाकामयाब रहे हैं। रविचंद्रन अश्विन जैसे गेंदबाज की समय-समय पर आलोचना हो रही है। हरभजन के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने हमेशा इस खिलाड़ी का पक्ष लिया है। गांगुली ने हमेशा कहा है कि भज्जी को टीम में रहना चाहिए। भज्जी ने भी अपने कप्तान के कहे को लेकर हामी भरी।

भज्जी ने कहा, ‘‘मैं किसी के बारे में बात नहीं करूंगा। मैं ऐसे किसी के बारे में नहीं बोलूंगा, जो टीम में शामिल है लेकिन मैं इतना जरूर कहूंगा कि मैं आज की तारीख में नम्बर-1 स्पिन गेंदबाज हूं। मेरे अंदर शीर्ष स्तर पर टीम को तीन से चार साल तक सेवाएं देने के लिए अभी भी काफी कुछ है।’’ स्थानीय आयोजनों में खेलने से हरभजन को इस बात का अंदाजा लगा है कि देश में और कितने स्पिन गेंदबाज हैं, जो आने वाले दिनों में टीम को अपनी सेवाएं दे सकते हैं।