Sports

मीरपुर: पाकिस्तानी टीम में उनकी जगह पर उंगली उठाने वाले आलोचकों को जवाब देते हुए हरफनमौला शाहिद अफरीदी ने आज कहा कि जिस दिन उसे लगेगा कि वह टीम पर बोझ है, वह खेल से सन्यास ले लेगा। अफरीदी ने श्रीलंका के खिलाफ एशिया कप फाइनल से पहले कहा, ‘‘जिस दिन मुझे लगेगा कि मैं टीम पर बोझ हूं, मैं खुद सन्यास ले लूंगा। मैं किसी को बोलने का मौका नहीं दूंगा। जब तक मैं फिट हूं और क्रिकेट को योगदान दे सकता हूं, मैं खेलता रहूंगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं अपने प्रदर्शन से देश को कुछ देना चाहता हूं। हर दिन आप रन नहीं बना सकते। मैंने गेंदबाजी पर भी फोकस किया है। मैं खुद को ऐसे तैयार करना चाहता हूं कि बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों से योगदान दे सकूं।’’ अफरीदी को लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं करने के लिए काफी आलोचना झेलनी पड़ी थी और कुछ पूर्व क्रिकेटरों ने टीम में उनके स्थान पर उंगली उठाई थी। अफरीदी ने भारत के खिलाफ आखिरी ओवर में दो छक्के लगाकर टीम को जीत दिलाई और बांग्लादेश के खिलाफ 25 गेंद में 59 रन बनाकर जीत के सूत्रधार की भूमिका निभाई।

अपनी दोनों पारियों में से उन्हें कौन सी बेहतर लगती है, यह पूछने पर उन्होंने कहा, ‘‘कई कारणों से मैं इनकी तुलना नहीं कर सकूंगा लेकिन दोनों पारियां मेरे और देश के लिए महत्वपूर्ण हैं।’’ अफरीदी ने कहा कि उन्हें बखूबी पता है कि वह क्या कर रहे हैं और उन्हें कोच की जरुरत नहीं है।