Sports

ढाका: भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाला हर मुकाबला करोड़ों लोगों और दोनों मुल्कों के लिए हमेशा से ही बेहद खास रहा है और इस समय कमजोर दौर से गुजर रही टीम इंडिया जब रविवार को इस हाईवोल्टेज मुकाबले के लिए अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी टीम के सामने खड़ी होगी तो दबाव और उम्मीदों के सामने उसे हर हाल में जीत दर्ज करनी होगी।

एशिया कप में भारत भले ही पांच बार चैंपियन रहा हो लेकिन इस समय वह बेहद खराब दौर से गुजर रहा है। पिछला मैच श्रीलंका से हारने के बाद टीम की स्थिति और भी कमजोर दिखाई दे रही है। अंक तालिका पर नजर डालें तो भारत जहां दो मैचों में एक जीत और एक हार के साथ चार अंक लेकर तीसरे नंबर पर है तो पाकिस्तान दो मैचों में पांच अंक लेकर दूसरे नंबर पर है। युवा बल्लेबाज विराट कोहली के नेतृत्व में टीम इंडिया ने सिर्फ बांग्लादेश को ही हराया है जबकि श्रीलंका जैसी मजबूत टीम के सामने उसकी बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही नहीं ठहर सकी।

इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान के लिए भी उतने ही अहम इस मुकाबले में यदि विपक्षी टीम ने धमाकेदार प्रदर्शन किया तो भारतीय टीम का क्या हश्र हो सकता है। भारतीय खिलाडिय़ों की इस समय सबसे बड़ी कमजोरी निरंतर प्रदर्शन न कर पाना है। टीम के बल्लेबाज रोहित शर्मा, शिखर धवन, अजिंक्या रहाणे, अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, आलराउंडर रवींद्र जडेजा, स्टुअर्ट बिन्नी किसी ने भी पिछले दोनों मैचों में संतोषजनक प्रदर्शन नहीं किया है।