Cricket

नागपुर: आईपीएल छह में स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी के मामले सामने आने तथा इस मामले की जांच करने वाली जस्टिस मुद्गल समिति के खिलाडिय़ों को शिक्षित करने पर बल दिए जाने के बाद देश के सफल कप्तानों में से एक सौरभ गांगुली ने कहा है कि मौजूदा दौर में खिलाडियों का शिक्षित होना बहुत जरूरी है तभी वे अच्छे और बुरे के बीच का अंतर सीख पाएंगे।

गांगुली ने स्थानीय डा. अंबेडकर कालेज द्वारा स्पोटर्स ला विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय परिषद का रविवार को समापन करते हुए कहा कि हुनर होने के बावजूद खिलाडियों को शिक्षा की कमी के कारण गलत नीतियों का शिकार होना पडता है। पूर्व कप्तान ने कहा ‘शिक्षित न होने के कारण खिलाड़ी यह नहीं समझ पाते हैं कि कौन उन्हें प्रलोभन में फंसा रहा है।’ उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का समर्थन करते हुए कहा कि आईपीएल युवा भारतीय क्रिकेटरों के लिए एक बहुत बडा प्लेटफार्म है।

आईपीएल में पैसों के साथ साथ खिलाडी रातोंरात दुनिया की नजर में आ जाते है। साथ ही प्रभावी प्रदर्शन करने पर खिलाडी चयनकर्ताओं की नजर में भी आ जाते है जिससे उनकी राष्ट्रीय टीम में चयन की संभावना बढ जाती है।