Sports

नई दिल्ली: भारतीय कोच टेरी वाल्श ने पुरुष हॉकी विश्व लीग फाइनल के पूल ए के अपने पहले मैच में इंग्लैंड के हाथों 0.2 की शिकस्त के बाद कहा कि उनकी टीम ने पर्याप्त मौके बनाए लेकिन इनका फायदा उठाने में नाकाम रही। राष्ट्रीय टीम के नवनियुक्त कोच ने मैच के बाद कहा, ‘‘हमारे पास ऐसे लम्हें थे जब हम मैच में पासा पलट सकते थे लेकिन हम मौकों का फायदा उठाने में नाकाम रहे। मुझे लगता है कि मैच काफी करीबी था और हमने पर्याप्त मौके गंवाए।’’

भारत एक बार फिर पेनल्टी कार्नर पर एक भी गोल करने में नाकाम रहा। इस बारे में पूछने पर वाल्श ने कहा, ‘‘ऐसी कोई बात नहीं है। हमारे पास तीन बहुत अच्छे ड्रैग फ्लिकर हैं। लेकिन काफी कुछ लय और दबाव पर निर्भर करता है। मुझे लगता है कि कुछ भी नकारात्मक बोलने की जरूरत नहीं है।’’ भारतीय कप्तान सरदार सिंह ने कहा कि उनकी टीम मैच में नई रणनीति के साथ उतरी थी और उसने कुछ गलतियां भी की जिससे सबक लेना होगा। उन्होंने कहा, ‘‘हम इस मैच में नई रणनीति के साथ उतरे थे इसलिए थोड़ी परेशानी हुई। हमने कुछ गलतियां भी की और अगले मैच में इनसे बचने की कोशिश करेंगे। हमें संवाद पर भी ध्यान देना होगा।’’

दूसरी तरफ इंग्लैंड के कोच बाकी क्रचले अपनी टीम के प्रदर्शन से संतुष्ट दिखे। उन्होंने कहा, ‘‘इन हालात में खेलना आसान था। मैं अपने डिफेंडरों के प्रदर्शन से खुश हूं। कुल मिलाकर हमने अधिक मौके बनाए और नतीजा संभवत: उचित था। जर्मनी के खिलाफ हमें कल नई चुनौती की सामना करना होगा। हम उनसे कई बार खेले हैं लेकिन वह दुनिया की नंबर एक टीम है।’’