Sports

मेलबोर्न: इंग्लैंड के कप्तान एलेस्टेयर कुक ने चौथे एशेज टेस्ट में आठ विकेट से मिली हार पर निराशा जताते हुए कहा है कि उनकी टीम इस टेस्ट में ढाई दिन तक अपना दबदबा बनाने के बावजूद जीती बाजी हार गई। कुक ने रविवार को चौथे ही दिन मैच समाप्त होने के बाद कहा ‘सीधी बात यह है कि हम एक बार फिर अच्छा नहीं कर पाए। इस मैच में जो बात सबसे ज्यादा निराशाजनक है वह यह है कि हमने अच्छा प्रदर्शन करके ऑस्ट्रेलिया पर दबाव बना लिया था। ढाई दिन तक मैच में अपना दबदबा बनाने के बाद हमने मैच गंवा दिया।’

लगातार चार टेस्ट गंवाने से कुक की कप्तानी भी संदेह के घेरे में आ गई। मैच में जब तीसरे दिन की शुरुआत हुई तो ऑस्ट्रेलिया की टीम 91 रन से पिछडी हुई थी और उसकी अंतिम जोडी मैदान पर थी। लेकिन कुक ने रक्षात्मक रुख अपनाते हुए फील्डरों को सीमा पर लगा दिया और अपने गेंदबाजों को शार्ट गेंद डालने को कहा। इतना ही नहीं कुक ने रविवार को ऑस्ट्रेलिया के दोनों ओपनरों के कैच टपकाए। डेविड वार्नर तो जीवनदान का खास फायदा नहीं उठा पाए लेकिन क्रिस रोजर्स ने शतक बनाकर अपनी टीम की नैया पार लगा दी।

कुक ने लंच से पहले अपने मुख्य स्पिनर मोंटी पनेसर के बजाय पार्ट टाइम आफ स्पिनर जो रूट से गेंदबाजी कराई। कुक ने इसका स्पष्टीकरण देते हुए कहा ‘क्रीज पर दो वामहस्त बल्लेबाज थे और मंद हवा बह रही थी। ऐसे में मोंटी को मोर्चे पर लगाना उल्टा पड सकता था। कप्तान होने के नाते आपको वक्त की नजाकत को देखते हुए निर्णय लेना पडता है। हो सकता है कि कई दूसरे लोग इसे दूसरे ढंग से करते।’