Sports

जोहानसबर्ग: कप्तान महेंद्र सिंह धोनी दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ यहां 18 दिसंबर से शुरू होने वाले पहले क्रिकेट टेस्ट में परंपरागत भारतीय रणनीति से हटकर चार तेज गेंदबाजों के आक्रमण को उतार सकते है ताकि मेजबान बल्लेबाजों को उन्हीं के अंदाज में जवाब दिया जा सके। भारत आमतौर पर विदेशी जमीन पर भी तीन तेज गेंदबाजों और एक स्पिनर के साथ उतरने की रणनीति पसंद करता है, लेकिन जोहानसबर्ग में पहले टेस्ट में परिस्थितियां बदल भी सकती हैं।

दक्षिण अफ्रीका ने इसी मैदान पर पहले वन डे में पांच तेज गेंदबाजों को उतार कर भारतीय बल्लेबाजी को धराशायी किया था। दूसरे वनडे में भी भारतीय बल्लेबाज दक्षिण अफ्रीका के तेज आक्रमण के सामने ढेर रहे थे। तीसरे वन डे में भारतीय तेज गेंदबाजों खासकर इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी ने क्रमश चार और तीन विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजों पर कुछ हद तक अंकुश लगाया था। भारतीय टीम प्रबंधन पहले टेस्ट में उतरने से पहले चार तेज गेंदबाजों की रणनीति पर विचार कर सकता है।

भारतीय टीम में बायें हाथ के अनुभवी तेज गेंदबाज जहीर खान को लंबे समय के बाद शामिल किया गया है। जहीर के नाम दक्षिण अफ्रीका के कप्तान ग्रीम स्मिथ को सभी तरह के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 13 बार आउट करने का रिकार्ड है। दक्षिण अफ्रीका के इस दौरे में भारतीय टीम में जहीर खान, इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव के रूप में पांच तेज गेंदबाज रखे गए हैं। इनमें से चार गेंदबाज पहले टेस्ट के लिए भारतीय रणनीति का अहम हिस्सा बन सकते हैं।