Other Games

नई दिल्ली: दिल्ली उच्च न्यायालय दिग्गज बैडमिंटन युगल खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा पर कथित अनुशासनहीनता के आरोप में भारतीय बैडमिंटन संघ के आजीवन प्रतिबंध से जुड़े मामले की सुनवाई अब तीन मार्च को करेगा।

न्यायामूर्ति वीके जैन की पीठ ने बाई को ज्वाला की याचिका का जवाब देने के लिए और समय देते हुए मामले को सुनवाई के लिए तीन मार्च को रखा है। ज्वाला ने बाई के उस फैसले के खिलाफ याचिका दी थी जिसमें कथित अनुशासनहीनता के कारण अनुशासन समिति के उन पर आजीवन प्रतिबंध की सिफारिश को देखते हुए उन्हें भारत या भारत के बाहर किसी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेने की स्वीकृति नहीं देने का फैसला किया गया था।