Cricket

नई दिल्ली: देश के दिग्गज क्रिकेटर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के रिटायरमेंट को लेकर अलग-अलग विचारधाराओं के बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने कहा है कि सचिन का 2011 विश्वकप के बाद टीम के साथ बने रहने का निर्णय सही था क्योंकि टीम में उनकी उपस्थिति भर ही काफी फर्क पैदा कर देती है।

गिलक्रिस्ट ने पत्रकारों से कहा ‘हर बार बात सिर्फ रनों या प्रदर्शन की ही नहीं होती है बल्कि सचिन इतने अहम खिलाड़ी हैं कि उनकी ड्रेसिंग रूम में मौजूदगीभर से ही स्थिति बदल जाती है।’ पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा ‘उस समय जब भारतीय टीम के पास अनुभवी सौरभ गांगुली, अनिल कुंबले, राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण जैसे खिलाड़ी नहीं थे तो उस समय सचिन का अनुभव और ज्ञान ही था जिसने टीम के युवा खिलाडिय़ों रोहित शर्मा, विराट कोहली आदि को आगे बढने में मदद की।’

सचिन से जुड़ी कुछ यादों के बारे में पूछने पर किंग्स इलेवन पंजाब के पूर्व कप्तान ने कहा कि 2003 विश्वकप फाइनल्स में सचिन को कम स्कोर पर आउट करना उनका सबसे यादगार पल है।