Sports

कोलकाता: ईडन गार्डन्स पर हर तरफ सचिन ही सचिन है। इस स्टार बल्लेबाज का 199वां टेस्ट मैच देखने के लिये हजारों प्रशंसक आज यहां स्टेडियम में पहुंचे हैं और प्रत्येक की जुबां पर एक ही नाम है सचिन तेंदुलकर।

कार्यालयों से अवकाश लेने वाले कर्मचारी तथा स्कूल और कालेज में अपनी कक्षाओं को छोड़कर यहां पहुंचे विद्याथियों का स्वागत स्टेडियम में तेंदुलकर के बड़े पोस्टर ने किया जिस पर लिखा था, ‘अपने खेल का लुत्फ उठाओ और सपनों का पीछा करेा क्योंकि सपने सच होते हैं।’ कट्टर समर्थकों ने तो अपने चेहरे पर तिरंगे से सचिन लिखा हुआ था। दर्शकों में तेंदुलकर की पत्नी अंजलि और पुत्र अर्जुन भी शामिल है जो मुंबई से विशेष रूप से यहां पहुंचे हैं।

टास की शुरूआत ‘सचिन, सचिन’ की गूंज के साथ हुई लेकिन जब भारत टास हार गया और वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया तो प्रशंसकों को निराशा हुई। शयद इस वजह से 65 हजार क्षमता वाले ईडन गार्डन्स पर आधी सीटें खाली नजर आ रही थी। लगता है कि टास की खबर सुनने के बाद अधिकतर प्रशसकों ने आज के खेल से खुद को दूर रखा क्योंकि वह अपने चहेते क्रिकेटर को आखिरी बार बल्लेबाजी करते हुए देखने का मौका नहीं चूकना चाहते हैं।

बैंकर विनय कुमार ने अपने सेलफोन पर टास की जानकारी हासिल करने के बाद अपनी छुट्टी रद्द करवा दी। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसके बजाय कल आउंगा। मैं सचिन को बल्लेबाजी करते हुए देखना चाहता हूं। उन्हें बल्लेबाजी करते हुए देखने का यह मेरे लिए आखिरी मौका होगा।’ दर्शकों ने तब सचिन के लिए खूब तालियां बजाई जब वह 20वें ओवर में सीमा रेखा पर क्षेत्ररक्षण के लिए गए। यहां तक कि मैच टिकट भी अहम बन गया है क्योंकि इस पर सचिन का फोटो और उनका आटोग्राफ है।

इससे पहले अपना 199वां टेस्ट मैच खेलने वाले तेंदुलकर को पुलिस आयुक्त सुरजीत कार पुरकायस्थ ने स्मृति चिन्ह भेंट किया। दोनों टीमों ने इस स्टार बल्लेबाज को शुभकामनाएं भी दी। विदाई श्रृंखला को लेकर बनी हाइप के बीच तेंदुलकर खेल शुरू होने से एक घंटे पहले अपने साथियों के साथ फील्डिंग ड्रिल के लिये उतरे। खेल शुरू होने से पहले उन्हें अपने साथियों के साथ फुटबाल खेलते हुए भी देखा गया। तेंदुलकर के कट्टर प्रशंसक सुधीर कुमार चौधरी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह स्टार बल्लेबाज अपनी आखिरी श्रृंखला में तिहरा शतक जमाएगा। चौधरी ने कहा, ‘यह विश्वास करना मुश्किल है कि वह आगे नहीं खेलेंगे। मुझ जैसे प्रशंसक के लिये विदाई उपहार के तौर पर उन्हें तिहरा शतक जडऩा चाहिए।’