Sports

कोलकाता: प्रतिभाशाली भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा को लंबे इंतजार के बाद आज वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण का मौका मिला गया और उन्हें टेस्ट कैप किसी और ने नहीं बल्कि महान सचिन तेंदुलकर ने पहनायी जो अपनी विदाई श्रृंखला खेल रहे हैं। मध्यम गति के गेंदबाज मोहम्मद शमी ने भी अपने घरेलू मैदान ईडन गार्डन्स पर टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और दिलचस्प बात यह रही कि उन्हें इशांत शर्मा ने कैप दी जो अपनी खराब फार्म के कारण अंतिम एकादश में जगह नहीं बना पाये।

इशांत, उमेश यादव, अमित मिश्रा और अजिंक्या रहाणे को पहले टेस्ट मैच के लिये अंतिम एकादश में नहीं चुना गया है। रोहित ने टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण के साथ ही एक नया रिकार्ड भी बनाया। वह दुनिया के पहले ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्हें 100 से अधिक एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलने के बाद अपना पहला टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला। रोहित ने अब तक 108 वन डे में 3049 रन बनाये हैं। इससे पहले सबसे अधिक वन डे खेलने के बाद टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण का रिकार्ड सुरेश रैना के नाम पर था जिन्हें 98 वन डे खेलने के बाद पहला टेस्ट खेलने का मौका मिला था।

इस सूची में शीर्ष पांच खिलाडिय़ों में ऑस्ट्रेलिया के एंड्रयू साइमंड्स (94 वन डे), एडम गिलक्रिस्ट (76 वन डे) और भारत के युवराज सिंह (73 वन डे) भी शामिल हैं। आलराउंडर रविंदर जडेजा के कंधे की चोट के कारण टेस्ट श्रृंखला में नहीं खेल पाने के बाद रोहित को मौका मिला। हाल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला में शानदार प्रदर्शन करने वाले रोहित भारत की तरफ से टेस्ट कैप हासिल करने वाले 280वें खिलाड़ी हैं।

रोहित ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 122.75 की औसत से 491 रन बनाये जिसमें बेंगलूर में खेली गयी 209 रन की पारी भी शामिल है। वह वन डे के इतिहास में दोहरा शतक जडऩे वाले तीसरे बल्लेबाज हैं। इस 26 वर्षीय खिलाड़ी के पास फरवरी 2010 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नागपुर टेस्ट मैच में पदार्पण का मौका था लेकिन मैच की सुबह फुटबाल खेलते हुए वह चोटिल हो गये थे। इसके बाद सुरेश रैना, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली और रविंदर जडेजा को मध्यक्रम में पदार्पण का मौका मिला।