Sports

नागपुर: आस्ट्रेलिया के हाथों 7 वनडे मैचों की सीरीज में 2-1 से पिछड़ चुकी भारतीय क्रिकेट टीम जब छठे मुकाबले के लिए उतरेगी तो मुकाबले में बने रहने के लिए कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के धुरंधरों को इस ‘करो या मरो’ के मुकाबले में हर हाल में जीत दर्ज करनी होगी।

भारतीय टीम ने 7 वनडे मैचों में सिर्फ एक ही मुकाबला जीता है जबकि रांची और कटक के 2 मुकाबले बारिश की भेंट चढ़ गए। ऐसे में यदि टीम इंडिया को जीत दर्ज करनी है तो उसे हर हाल में शेष दोनों मुकाबले जीतने होंगे जबकि सीरीज बराबरी पर लाने के लिए नागपुर वनडे मुट्ठी में करना होगा। कप्तान धोनी की टीम इस समय जहां दबाव में दिखाई दे रही है वहीं कप्तान जार्ज बैली की भ्रमणकारी आस्ट्रेलिया आत्मविश्वास से लबरेज है और उसकी एक और जीत उसे सीरीज कब्जाने में मदद करेगी।

ऐसे में साफ है कि आस्ट्रेलिया नागपुर में भी मेजबान टीम पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाने का प्रयास जरूर करेगा।  छठे वनडे से पहले भारतीय टीम फार्म में लौटने के लिए हरसंभव कोशिश कर रही है और सोमवार को उसके खिलाडिय़ों ने मैदान पर भी जमकर पसीना बहाया। टीम के रणनीतिकार और उसके कप्तान धोनी इस मुकाबले की अहमियत अच्छी तरह जानते हैं और उम्मीद की जा सकती है कि भारतीय टीम मुकाबले में लौटने के लिए हरसंभव प्रयास करेगी। 

टीम का बल्लेबाजी क्रम जहां उसकी ताकत है वहीं गेंदबाजी अभी भी उसकी सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है। रांची में रद्द रहे चौथे वनडे में खराब फार्म से जूझ रहे तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा तथा भुवनेश्वर कुमार को बाहर रखा गया था और उनकी जगह जयदेव उनादकट और मोहम्मद शमी को टीम का हिस्सा बनाया गया था। सीरीज में अभी तक खेले गए मुकाबलों में आलराऊंडर रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन ने भी कोई खास कमाल नहीं किया है।