Other Games

अलमाटी: उभरते हुए स्टार शिव थापा और वापसी कर रहे थाकचोम ननाओ सिंह ने शनिवार को यहां विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के प्रीक्वार्टर फाइनल में जगह बनाई लेकिन अनुभवी विजेंदर सिंह दूसरे दौर में हारकर बाहर हो गए जिससे कल का दिन भारत के लिए मिश्रित सफलता भरा रहा। विश्व चैम्पियनशिप और ओलंपिक में पदक जीतने वाले पहले भारतीय विजेंदर (75 किग्रा) को गत यूरोपीय चैम्पियन और पांचवें वरीय आयरलैंड के जेसन क्विग्ले के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा।

अपने पहले मुकाबले में बुखार होने के बावजूद चुनौती पेश करने वाले विजेंदर ने कहा कि यह काफी करीबी मुकाबला था और मुझे लगता है कि मैं हारा नहीं हूं। मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और मुझे लगता है कि मैं हार का हकदार नहीं था। उन्होंने कहा कि मैं पहले भी अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंटों में इस मुक्केबाज के खिलाफ खेला हूं और इसमें कोई शक नहीं कि वह अच्छा है लेकिन मुझे नहीं लगता कि आज मुझे हारना चाहिए था। मैं इस हार को पीछे छोड़ूंगा और अगली बार उसके खिलाफ जीत सुनिश्चित करूंगा।

एशियाई चैम्पियनशिप के पूर्व रजत पदक विजेता ननाओ (49 किग्रा) और गत एशियाई चैम्पियन शिव (56 किग्रा) ने अंतिम 16 में जगह बनाकर भारत को जश्न मनाने का मौका दिया। पहले दौर में बाई हासिल करने वाले ननाओ ने दूसरे दौर में स्काटलैंड के अकील अहमद को 3-0 से हराया। पूर्व कैडेट विश्व चैम्पियन ननाओ अगले दौर में पुएटरे रिको के पांचवें वरीय एंथोनी चाकोन रिवेरा से भिड़ेंगे।

चौथे वरीय शिव ने फिलीपीन्स के मारियो फर्नांडेज को हराया। शिवा को भी पहले दौर में बाई मिली थी। शिवा अंतिम 16 के मुकाबले में सोमवार को अर्जेंटीना के अल्बटरे मेलियान से भिड़ेंगे।