Tennis

नई दिल्ली: हर भारतीय जब सांस रोक कर सचिन तेंदुलकर के वानखेडे स्टेडियम में 200वें टेस्ट का इंतजार कर रहा है। टेनिस स्टार सानिया मिर्जा अपने आप को लिटिल मास्टर के समय में खेलने के लिए भाग्यशाली मानती हैं।

सानिया ‘मैक्स बुपा वाक फार हेल्थ’ को हरी झंडी दिखाने के लिए शहर में आई थी। उसने कहा कि दो दशक से अधिक तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के बाद अवकाश ग्रहण करने के फैसले का वह सम्मान करती हैं। उसने कहा कि सचिन का रिटायर होना अच्छा नहीं लग रहा है। कोई नहीं चाहता कि वह रिटायर हों। उन्होंने वर्षों देश की सेवा की है। मैं उनके फैक्सले का सम्मान करती हूं।’ सानिया ने यूनीवार्ता को बताया कि ‘मैं अपने को सौभाग्यशाली मानती हूं कि उनके युग में खेली हूं। मैं उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देती हूं।’

सानिया का 2013 में फार्म बहुत अच्छा रहा। उसने पांच युगल खिताब जीते हैं। सानिया ने इसे कैरियर का सबसे अच्छा समय बताया और कहा कि ग्रैंड स्लैम के और खिताब जीतने की वह उम्मीद करती है। उसने कहा कि पांच खिताब जीतकर वह बहुत खुश है। पिछले दो टूर्नामेंट में जीत बहुत महत्वपूर्ण रही। वे बस ग्रैंड स्लैम से निचले स्तर के हैं। 26 वर्षीय सानिया को विभिन्न कारणों से विभिन्न सहयोगियों के साथ खेलना पडा है।