Cricket

बैंगलूर: मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के संन्यास की खबर केवल भारत में ही सुर्खियां नहीं बनी हैं बल्कि इंटरनेशनल मीडिया में मेन न्यूज बनीं। पाकिस्तान की अंग्रेजी प्रेस ने सचिन के बारे में तारीफो के पुल बांधते हुए लिखा है कि सचिन के बिना भारत का क्रिकेट दिवालिया और दरिद्र हो जाएगा। अंग्रेजी के अखबारों ने सचिन के अगले महीने 200वां टेस्ट खेलने के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास के बारे में काफी कुछ लिखा और उनकी उपलब्धियों की तारीफ की है।

‘डॉन’ ने लिखा कि तेंदुलकर के संन्यास से सचमुच उनके यादगार करियर का अंत हो जायेगा जो लगभग 25 साल तक चला। अखबार ने लिखा, ‘आलोचकों और समकालीन क्रिकेटरों ने उन्हें क्रिकेट का महान खिलाड़ी माना है। तेंदुलकर ने 1989 में पाकिस्तान में कराची में अपने पदार्पण मैच के बाद शानदार बल्लेबाजी कौशल से रिकार्ड बुक अपना नाम लिखाना जारी रखा।’

इसके अनुसार, ‘उनके 100 अंतर्राष्ट्रीय शतक और 15,000 टेस्ट रन रिकार्ड हैं जिनके कई वर्षों तक टूटने की संभावना नहीं है। तेंदुलकर अब 40 वर्ष के हैं और भारत में उन्हें भगवान का दर्जा हासिल है। उन्होंने कभी भी इस सफलता को अपने सिर पर नहीं चढऩे दिया और वे विवादों से भी दूर रहे। उनकी छवि मैदान के अंदर और बाहर बेहतरीन है। जब क्रिकेट विवादों से भरा हो तब इस उम्र में उनकी यह उपलब्धि दुर्लभ है।’

गौरतलब है कि अगले महीने वेस्टइंडीज के साथ होने वाली दो मैचों की श्रृंखला का दूसरा और अंतिम मैच सचिन के करियर का 200वां मैच होगा। इस मैच के साथ सचिन विदा लेंगे। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने शुक्रवार को साफ कर दिया कि क्रिकेट जगत से सचिन की तयशुदा विदाई मुम्बई में होगी क्योंकि वह अपने घरेलू मैदान पर 200वां टेस्ट खेलते हुए संन्यास लेंगे।