Sports

नई दिल्ली: एन श्रीनिवासन ‘काफी खुश’ हैं कि उच्चतम न्यायालय ने आज उन्हें बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में पदभार ग्रहण करने की स्वीकृति दे दी और उन्होंने कहा कि क्रिकेट बोर्ड को अपने संचालन के लिए किसी की जरूरत थी। श्रीनिवासन ने न्यायालय के आदेश के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उच्चतम न्यायलय ने कहा है कि मैं कार्य करना दोबारा शुरू कर सकता हूं और अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर सकता हूं। इसलिए मैं काफी खुश हूं क्योंकि बीसीसीआई को किसी की जरूरत थी।’’

उच्चतम न्यायालय ने साथ ही पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश मुकुल मुदगल की अध्यक्षता के जांच पैनल का भी गठन किया जो आईपीएल में सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग की जांच करेगा। श्रीनिवासन हालांकि नयी समिति के गठन से अधिक चिंतित नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘‘नयी समिति पर कुछ कोई टिप्पणी नहीं करनी, उच्चतम न्यायालय ने सीधे इसका गठन किया है। मैं इसका हिस्सा नहीं हूं। मेरा इससे कुछ लेना देना नहीं है।’’

न्यायालय ने जांच पैनल को अपनी जांच चार महीने के भीतर पूरी करने को कहा है। साथ ही बीसीसीआई और श्रीनिवासन को जांच में हस्तक्षेप नहीं करने का निर्देश भी दिया गया है।