Cricket

जयपुर: राजस्थान रॉयल्स के कप्तान राहुल द्रविड़ ने चैंपियंस लीग टी20 के पहले सेमीफाइनल में चेन्नई सुपरकिंग्स पर 14 रन की जीत का श्रेय अपने गेंदबाजों विशेषकर 42 साल के लेग स्पिनर प्रवीण ताम्बे को दिया जिनमें अब भी ‘सीखने की ललक’ है।

द्रविड़ ने मैच के बाद कहा, ‘‘यह ताम्बे का अनुभव है जो कि टीम के काम आ रहा है। वह दशकों से क्लब क्रिकेट में गेंदबाजी कर रहा है और उसमें अब भी सीखने की ललक है। वह हमेशा ब्रैड हाज और शेन वाटसन से गेंद की तेजी और बल्लेबाजी के हावी होने पर उस पर अंकुश लगाने के बारे में बात करता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब हमने उसे (ताम्बे) चुना था तो कई लोगों ने सवाल उठाये थे लेकिन उसकी मानसिक दृढता सही साबित हुई।’’

रॉयल्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट पर 159 रन बनाये लेकिन द्रविड़ को लगता है कि उनकी टीम को 180 के करीब स्कोर बनाना चाहिए था। उन्होंने कहा, ‘‘हमने 15 से 20 रन कम बनाये लेकिन हमारी गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण शानदार रहा।’’ द्रविड़ ने कहा, ‘‘मुझे जयपुर में खेलना हमेशा अच्छा लगा। शायद यहां यह मेरा आखिरी मैच है और मुझे यहां दर्शकों से भरपूर प्यार और समर्थन मिला।’’ चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने रॉयल्स को 159 रन पर रोकने के लिये अपने गेंदबाजों की तारीफ की लेकिन वह अपने बल्लेबाजों के प्रदर्शन से निराश दिखे।

धोनी ने कहा, ‘‘मैं समझता हूं कि गेंदबाजों ने शानदार भूमिका निभायी क्योंकि लग रहा था कि वे इससे बड़ा स्कोर बनाएंगे। हमारे बल्लेबाज अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरे। इसके अलावा दो बल्लेबाजों के रन आउट होने से परेशानी बढ़ गई।’’