Sports

नई दिल्ली: मुसीबतों से घिरे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सामने अब मुख्य प्रायोजक को ढूंढने समस्या आन पडी है। भारती एयरटेल ने बीसीसीआई के साथ 31 मार्च को खत्म हो रहे चुके अपने अनुबंध को आगे नहीं बढाने का फैसला किया है। एयरटेल के पास एक सितंबर 2010 से 31 मार्च 2013 तक भारत के होने वाले टीम इंडिया के घरेलू मैचों के प्रायोजन अधिकार थे।

इसके लिए कंपनी हर मैच के लिए 3.33 करोड रुपए चुका रही थी। कंपनी को अपने अनुबंध का नवीकरण करने के लिए तीन महीने का समय दिया गया था लेकिन कंपनी ने ऐसा नहीं करने का फैसला किया। फारुक अब्दुल्ला की अगुवाई वाली 23 सदस्यीय मार्केटिंग कमेंटी निविदा दस्तावेज को अंतिम रूप देगी।

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा कि आधार मूल्य को छोडकर निविदा की सभी शर्तों के समान रहने की संभावना है।