Sports

प्राग: बायर्न म्यूनिख ने यूएफा सुपर कप फुटबॉल टूर्नामेंट के फाइनल में दस खिलाडिय़ों के साथ खेल रहे चेल्सी को पेनल्टी शूटआउट में 5-4 से हराकर 2012 की चैंपियन्स लीग की हार का बदला चुकता किया। अतिरिक्त समय के बाद दोनों टीमें 2-2 से बराबरी पर थी। बायर्न म्यूनिख के जावी मार्टिनेज ने 121वें मिनट में बराबरी का गोल दागकर मैच को पेनल्टी शूटआउट तक खींचा।

 

इसके बाद चेल्सी के स्थानापन्न खिलाड़ी रोमेलु लुकाकु दसवीं पेनल्टी में चूक गए। इससे बायर्न चौथे प्रयास में खिताब जीतने में सफल रहा। बायर्न के कोच पेप गौरडियालो ने मार्टिनेज के गोल के संदर्भ में कहा, ‘‘एक सेकेंड में सब कुछ बदल गया। मैं खिलाडिय़ों को लेकर बहुत खुश हूं।’’

 

चेल्सी के फर्नांडो टोरेस ने आठवें मिनट में ही अपनी टीम को बढत दिला दी थी लेकिन बायर्न के फ्रैंक रेबेरी दूसरे हाफ के शुरू में ही बराबरी का गोल दागने में सफल रही। नियमित समय तक स्कोर 1-1 से बराबरी पर था। चेल्सी ने अतिरिक्त समय में भी फिर से बढ़त बनाई। उसकी तरफ से यह गोल 93वें मिनट में एडेन हेजार्ड ने किया। जब लग रहा था कि चेल्सी मैच जीतने में सफल रहेगा तब अतिरिक्त समय के आखिरी क्षणों में मार्टिनेज ने नाटकीय तरीके से गोल करके पूरा पासा पलट दिया।