Sports

केपटाउनः अंतरराष्ट्रीय फुटबाल महासंघ(फीफा) ने दक्षिण अफ्रीका और सेनेगल के बीच गत वर्ष नवंबर में खेले गये विश्वकप क्वालिफायर मैच में रेफरी पर लगे आजीवन प्रतिबंध के बाद इस मैच को ही दोबारा कराने का निर्देश दिया है। फीफा ने अपने बयान में बताया कि मैच रेफरी घाना के जोसेफ लैम्पटी ने दक्षिण अफ्रीका और सेनेगल के बीच ग्रुप डी के क्वालिफायर मैच में परिणाम को प्रभावित किया था। 

वैश्विक संस्था ने कहा कि रेफरी को दोषी पाये जाने के बाद उनपर आजीवन प्रतिबंध लगाया गया है और ऐसे में इस मैच को दोबारा कराया जाएगा। इस मैच में दक्षिण अफ्रीका ने 2-1 से जीत अपने नाम की थी। फीफा ने इस मामले में विस्तृत जानकारी नहीं दी लेकिन बताया कि अफ्रीकी फुटबाल संस्था(कैफ) के अनुसार रेफरी ने इस मैच में दक्षिण अफ्रीकी टीम को गलत तरीके से पेनल्टी का मौका दिया था। लैम्पटी पर स्विटजरलैंड स्थित खेल पंचाट(कैस) ने आजीवन प्रतिबंध को बरकरार रखा है। वैश्विक संस्था ने अपने बयान में कहा कि फीफा विश्वकप क्वालिफायर ब्यूरो ने दक्षिण अफ्रीका और सेनेगल के बीच 12 नवंबर 2016 को हुये मैच को दोबारा कराने का फैसला किया है। 

उन्होंने बताया कि इस मैच को इस वर्ष 2017 में नवंबर माह में उसी तारीख को दोबारा से कराया जाएगा। फीफा ने बताया कि आयोजन समिति अपनी 14 सितंबर को अगली बैठक में इसकी आधिकारिक पुष्टि करेगा।  हालांकि इस बीच दक्षिण अफ्रीका ने फीफा के इस फैसले को मानने से इंकार करते हुये इसके खिलाफ अपील करने का फैसला किया है। दक्षिण अफ्रीकी फुटबाल संघ(साफा) ने गुरूवार को अपने बयान में कहाÞ साफा इस पूरे मामले पर आयी रिपोर्ट की समीक्षा कर रहा है और हम इस फैसले के खिलाफ अपील करेंगे। साफा का मानना है कि हम इस पूरे मामले में किसी तरह से शामिल नहीं थे ऐसे हम दोबारा मैच के निर्णय को स्वीकार नहीं कर सकते हैं जैसा फीफा चाहता है।