Sports

क्वीटोः लियोनल मैसी ने अपनी हैट्रिक की बदौलत फीफा विश्वकप से बाहर होने की कगार पर पहुंच गई अर्जेंटीना को इक्वाडोर के खिलाफ करो या मरो के क्वालिफायर मुकाबले में 3-1 की जीत के साथ अगले वर्ष रूस का टिकट दिला दिया और एक बार फिर साबित कर दिया कि वह क्यों अर्जेंटीना के सुपरस्टार हैं। वर्ष 1970 के बाद पहली बार विश्वकप से बाहर होने के खतरे को झेल रही अर्जेंटीना के लिये इक्वाडोर के खिलाफ मंगलवार रात क्वीटो में हुआ विश्व क्वालिफायर का मुकाबला करो या मरो का था। लेकिन अर्जेंटीना के हीरो मैसी ने मुश्किल की इस घड़ी में अपना बेहतरीन प्रदर्शन दिखाते हुये तीन गोल दाग दिये।   

दो बार की विश्व चैंपियन अर्जेंटीना 10 टीमों के दक्षिण अमेरिकी ग्रुप में तीसरे स्थान पर रही है। इस ग्रुप से ब्राजील, उरूग्वे और कोलंबिया पहले ही क्वालीफाई कर चुके हैं जबकि पेरू ओसनिया चैंपियन न्यूजीलैंड के खिलाफ प्लेआफ में पहुंच गया है। अर्जेंटीना के कोच जार्ज सम्पोली ने अपनी टीम के इस जबरदस्त प्रदर्शन की सराहना करते हुये कहा कि आज अर्जेंटीना ने एक बड़ा कदम उठाया है। हमें यकीन है कि अब बाकी बचे समय में हम अच्छी तैयारी करेंगे और रूस में मजबूत चुनौती पेश करेंगे।

सम्पोली ने हालांकि मैसी के प्रदर्शन को काफी सराहा लेकिन साथ ही माना कि उनकी टीम को मैसी पर इस हद तक निर्भर नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि हमें इस बात पर ध्यान देना होगा कि हम मैसी पर इतना निर्भर न हों। मैसी हालांकि पिछले कुछ समय से अच्छी फार्म में नहीं थे और पिछले तीन ड्रा क्वालिफायर मैचों में वह गोल भी नहीं कर सके थे जिसकी वजह से अर्जेंटीना छठे स्थान पर खिसक गयी थी और उसपर विश्वकप से बाहर तक होने का खतरा पैदा हो गया था।