Sports

नई दिल्ली: अपने जमाने के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने आज अपनी जिंदगी से जुड़ा एक ऐसा राज खोला जिसका जिक्र उन्होंने शायद ही पहले कभी किया हो। 

आईडीबीआई फेडरल लाइफ इन्श्योरेन्स नई दिल्ली मैराथन की घोषणा के अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए सचिन ने कहा, ‘‘एक बार तेजी से गेंद मेरी पसली पर लगी। मैंने किसी तरह दर्द सहा। आलम यह था कि तब मेरी आवाज तक नहीं निकल रही थी लेकिन मैंने गेंदबाज को इसका अहसास नहीं होने दिया। यदि मैं एेसा करता तो वह और आक्रामक हो जाता। तीन महीने बाद एक स्कैन से मुझे पता चला कि मेरी पसली में चोट लगी है।’’ 

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘मैंने कभी विरोधी को यह अहसास नहीं होने दिया कि मैं थका हुआ हूं। कभी हार नहीं मानो। अगर आपने अपने प्रतिद्वंद्वी को अपनी कमजोरी का अहसास करा दिया तो वह उसे भुनाने की कोशिश करेगा।’’