Sports

इंदौर: भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा पर चेतावनी देने के बावजूद पिच के बीचोंबीच (सुरक्षित क्षेत्र) में दौडऩे पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया है। जडेजा की इस गलती के लिए अंपायरों ने पहले तो भारत के स्कोर से पांच रन घटाकर न्यूजीलैंड टीम को पैनल्टी के रूप में दे दिए जो जडेजा समेत पूरी टीम को भुगतने पड़े। इसके बावजूद फिर विकेटों के बीचोंबीच दौडऩे पर उन पर मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना भी लगाया गया और तीन डिमेरिट अंक भी उनके नाम जोड़ दिए गए।  

तीसरे टेस्ट के दौरान हुई ये घटना
यह घटना न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे क्रिकेट टेस्ट के दौरान भारत की पहली पारी की है जब जडेजा 16 और रोहित शर्मा 37 रन बनाकर खेल रहे थे। जडेजा ने शॉट खेलने के बाद पिच के बींचोबीच (डेंजर एरिया में) दौड़ लगा दी। इससे जडेजा को दो बार अनौपचारिक और एक आधिकारिक चेतावनी भी दी गई थी। वह चौथी बार पिच में सुरक्षित क्षेत्र में घुसे और उसे नुकसान पहुंचाया। जडेजा ने अपना अपराध और मैच रैफरी डेविड बून द्वारा सुनाई गई सजा स्वीकार कर ली। इससे औपचारिक सुनवाई की जरुरत ही नहीं पड़ी। 

लग सकता है जडेजा पर बैन
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने एक विज्ञप्ति में बताया कि नियमानुसार यदि जडेजा के खाते में अगले दो साल में एक और डीमेरिट अंक जुड़ जाते हैं तो उन पर एक टेस्ट, दो वनडे या दो ट््वंटी-20 मैच खेलने पर प्रतिबंध बैन जा सकता है।